Loan EMI: कम उम्र में कर्ज लेना फायदे का सौदा ( Code 0031)

Loan EMI: कम उम्र में कर्ज लेना फायदे का सौदा ( Code 0031)

આવતા મહિનાની 8 તારીખે લગન લેવાશે

Loan EMI: कम उम्र में कर्ज लेना फायदे का सौदा

जीवन में कुछ काम और जरुरतों को पूरा करने के लिए वित्तीय सहायता के तौर पर लोन की जरुरत होती है. क्योंकि ये आवश्यकताएं ऐसे होती है जिनकी पूर्ति के लिए अक्सर आम आदमी के पास पर्याप्त फंड नहीं होता है. इनमें घर खरीदना, शादी, बच्चों की शिक्षा और अन्य अहम काम शामिल हैं. लेकिन लोन मिलने की निर्भरता में उम्र, आय, पुनर्भुगतान क्षमता और क्रेडिट स्कोर अहम कारक हैं.

अगर आपकी आयु 25 वर्ष है तो 40 वर्ष की उम्र वाले व्यक्ति की तुलना में कम आय होने के बावजूद आप बड़ा लोन ले सकते हैं और ईएमआई का बोझ भी कम होता है. क्योंकि आप लोन की अवधि को बढ़ाकर मासिक किस्त को अपनी आय और सुविधा अनुसार चुन सकते हैं. लेकिन आवेदक की उम्र ज्यादा होने पर लोन की अवधि नहीं बढ़ती है तो क्योंकि 40 साल की आयु में रिटायरमेंट की अवधि पास आने लगती है. आइये विस्तार से जानते हैं कि उम्र लोन चुकाने की क्षमता को किस तरह प्रभावित करती है.

उम्र के अनुसार लोन और EMI का कैलकुलेशन

बैंक आमतौर पर व्यक्ति की शुद्ध मासिक आय के 60 गुना (अन्य कारकों पर भी विचार किया जाता है) तक लोन देते हैं. इसका मतलब है कि 50 लाख रुपये का लोन लेने के लिए आपकी नेट टेक-होम सैलरी लगभग 83,000 रुपये होनी चाहिए. चूंकि अगर आप लोन 30 वर्ष की आयु में लेते हैं तो आपको ऋण चुकाने के लिए 30 वर्ष मिल सकते हैं (रिटायरमेंट की आयु 60 वर्ष मानते हुए) इसलिए आप आसानी से 38,446 रुपये की ईएमआई चुका सकते हैं और अन्य वित्तीय जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए आपके पास पर्याप्त पैसा बचता है.

वहीं, अगर आप 40 साल की उम्र में लोन लेते हैं तो आपकी ईएमआई की देनदारी बढ़कर 43,391 रुपये हो जाएगी. अब वित्तीय जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए ईएमआई चुकाने के बाद आपके पास 39,600 रुपये बचेंगे.

उम्र बढ़ने पर घट जाता है लोन अमाउंट

इसके अलावा अगर आप 50 वर्ष की आयु में लोन लेते हैं, तो आपकी ईएमआई बढ़कर लगभग 62,000 रुपये हो जाएगी और आपके पास केवल 21,000 रुपये बचेंगे. यदि लोन लेने वाले की व्यक्ति की उम्र रिटायरमेंट के करीब है, तो बैंक लोन की रिकवरी सुनिश्चित करने के लिए सह-उधारकर्ता लाने, लोन मार्जिन बढ़ाने, लोन राशि कम करने के लिए कह सकता है. रिटायरमेंट के बाद बैंक आपको उन सभी लोन प्रोडक्ट की अनुमति नहीं दे सकते हैं जो वे गैर-सेवानिवृत्त लोगों को प्रदान करते हैं. रिटायरमेंट के बाद भी व्यक्ति पेंशन इनकम पर लोन ले सकता है.

कुल मिलाकर जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है तो लोन लेने की पात्रता कम होती जाती है. हालांकि, आप अभी भी सह-उधारकर्ता को पेश करके, डाउन पेमेंट बढ़ाकर या गोल्ड लोन या संपत्ति के बदले लोन जैसे सिक्योर्ड लोन का चयन करके लोन प्राप्त कर सकते हैं.

Shake Effect

Leave a Comment