Independence Day Shayari in Hindi || Happy Independence Day Shayari in Hindi || स्वतंत्रता दिवस पर शायरी

Independence Day Shayari in Hindi || Happy Independence Day Shayari in Hindi || स्वतंत्रता दिवस पर शायरी

Independence Day Shayari in Hindi

नमस्कार दोस्तों, ✍️ Dynamo Shayari में आपका हार्दिक स्वागत है। मैं हूँ आपका प्यारा दोस्त विकास यादव। तो मेरे प्यारे दोस्तों आज की पोस्ट में हम बात करने जा रहे हैं –  Independence Day Shayari in Hindi, Happy Independence Day Shayari in Hindi, Independence Day Shayari, Happy Independence Day Shayari, Independence Day Images, स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, स्वतंत्रता दिवस शायरी हिंदी में, स्वतंत्रता दिवस शायरी हिंदी, स्वतंत्रता दिवस शायरी की। तो चलिए शुरू करते हैं।

Independence Day Shayari in Hindi

चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले,

शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले,

जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे

देशभक्तो के खून की वो धारा याद करले..||

Happy Independence day

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है,

है दोनों इंसान,

ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,

इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर

हैं मेरा बस एक ही अरमान

एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

इश्क़ तो करता हैं हर कोई

मेहबूब पे मरता हैं हर कोई,

कभी वतन को मेहबूब बना कर देखो

तुझ पे मरेगा हर कोई……!!!!

15 अगस्त की शुभकामना

ना पूछो ज़माने को,

क्या हमारी कहानी हैं

हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं

की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!!

सदा ही लहराता रहे ये तिरंगा हमारा

सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा

गूंज उठता हैं जहां में चारो ओर…..

लोगो की जुबान से वन्दे मातरम का नारा

वतन की सर बुलंदी के लिए ये दिल क्या

ख़ुशी ख़ुशी मिट जाए ये जिस्म भी हमारा

जो शहीद हो गए वो अमर कहलाये अक्सर

उनकी कुरबानियों के आगे सदा नमन हमारा

इस देश के वासी बखूबी ये जानते हैं की

सोने की चिड़िया कहलाता प्यारा देश हमारा

वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई,

रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई,

दिल हमारे एक है एक है हमारी जान,

हिंदुस्तान हमारा हैं हम हैं इसकी शान.

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा

ये मुल्क मेरी जान है

इसकी रक्षा के लिए

मेरा दिल और जां कुर्बान है..||

अनेकता में एकता ही हमारी शान है

इसीलिये मेरा भारत महान है

जय हिंद जय भारत

ये बात हवाओं को बताये रखना

रोशनी होगी चिरागों को जलाये रखना

लहू देकर जिसकी हिफाजत हमने की

ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना.

सुन्दर है जग में सबसे

नाम भी न्यारा है

जहां जाति भाषा से बढ़ कर

देश-प्रेम की धारा है

निश्चल, पवन, प्रेम पूर्ण

वो भारत देश हमारा है

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

कुछ नशा तिरंगा की आन का है

कुछ नशा मातृभूमि की शान का है

हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा

नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है।।

आन देश की, शान देश की

भारत की हम संतान है

तीन रंग से रंगा है तिरंगा

बस यही हमारी पहचान है।

आओ कांटो में फूल उगाए

आओ देश को और हसीन बनाए

आओ सब मिलकर गले मिलते हैं

आओ आजादी का पर्व मनाए।

यह दिन है अभिमान का, है माता के मान का

नहीं जाएगा रक्त व्यर्थ, वीरों के बलिदान का

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं,

तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान है!

वो तिरंगे वाले DP हो तो लगा लेना भाई जी,

सुना है कल देशभक्ति दिखने वाली तारीख हैं।

मरने के बाद भी जिसके नाम मे जान हैं,

ऐसे जाबाज़ सैनिक हमारे भारत की शान है।

सरफ़रोशी की शमा दिल में जला लू तो क्या होगा?

सारा लहू अगर शरहदों पे बहा दूँ तो क्या होगा?

उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं,

जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं

आर्मी तो है देश की शान,

जिन्दादिली है जिसकी पहचान।

कहते हैं तुझसे ए दुश्मन मत ले हमारा इम्तेहान……..

तू क्या जाने ताकत वतन की जिसे सब कहते हैं हिन्दुस्तान

कुछ तो बात है मेरे देश की मिट्टी में साहेब,

सरहदें कूद के आते हैं यहाँ दफ़न होने के लिए।

जिस देश में पैदा हुए हो तुम, उस देश के अगर तुम भक्त नहीं

नहीं पिया दूध माँ का तुमने और बाप का तुम में रक्त नहीं…।

वन्देमातरम !! स्वतंत्रता दिवस मुबारक हो !!

भारत की फ़जाओं को सदा याद रहूँगा,

आज़ाद था, आज़ाद हूँ, आज़ाद रहूँगा।

वो ज़िन्दगी ही क्या जिसमे देशभक्ति ना हो।

और वो मौत ही क्या जो तिरंगे में ना लिपटी हो।

जिक्र अगर हीरो का होगा,

तो नाम हिंदुस्तान के वीरों का होगा।

आँखों में सपने लिए हमारे देश के जवानों ने,

खायी थी कसम कभी के भारत को आज़ाद करना हैं

लड़े थे देश के खातिर और शहीद होकर अमर हुए

उनकी याद में आज़ादी मनाकर आज का दिन सजाना हैं

मत भूलना वो हज़ारों लोगों की क़ुर्बानी दोस्तों,

उनकी ही वजह से आज भारत में आज़ादी का खजाना हैं,

महात्मा गाँधी, चाचा नेहरू, भगत सिंह जैसे,

महापुरषों का देखो, लगा यहां ताना बना हैं

कर कोशिश आज तू देश की उन्नति में साथ देने की,

जीना भी यही और एक दिन यही मर जाना हैं,

हैं धरती हमारी माता इसका करो सम्मान सदा

इसी मिटटी से बने हैं हम, इसी मिटटी में फिर मिल जाना हैं

हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे

तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे

कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ

उन आंखों को फिर दुनिया देखने नहीं देंगे

है नमन उनको, जो यशकाय को अमरत्व देकर,

इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,

है नमन उनको, जिनके सामने बौना हिमालय,

जो धरा पर गिर पड़े, पर आसमानी हो गये हैं..!!

चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं,

इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं,

मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं,

कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं.

लड़ें वो वीर जवानों की तरह,

ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,

मरते-मरते भी मार गिराए,

तभी तो देश आज़ाद हुआ.

देश को आजादी के नए अफसानों की जरूरत है

भगत-आजाद जैसे आजादी के दीवानों की जरूरत है,

भारत को फिर देशभक्त परवानों की जरूरत है..!!

देशभक्तों से ही देश की शान है

देशभक्तों से ही देश का मान है

हम उस देश के फूल हैं यारों

जिस देश का नाम हिंदुस्तान है

कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,

जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,

हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की,

इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा.

दे सलामी इस तिरंगे को

जिस से तेरी शान हैं,

सर हमेशा ऊँचा रखना इसका

जब तक दिल में जान हैं..!!

मुकम्मल है इबादत और मैं वतन ईमान रखता हूँ,

वतन के शान की खातिर हथेली पे जान रखता हूँ !!

क्यु पढ़ते हो मेरी आँखों में नक्शा पाकिस्तान का ,

मुस्लमान हूँ मैं सच्चा, दिल में हिंदुस्तान रखता हूँ !!

जो अब तक ना खौला

खून नहीं पानी है

जो देश के काम ना आये

वो बेकार जवानी है

जो भरा नहीं है भावों से

बहती जिसमें रसधार नहीं

वह हृदय नहीं वो पत्थर है

जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं

संस्कृति और संस्कार की शान मिले ऐसे

हिंदू, मुस्लमान और हिंदुस्तान मिले ऐसे

हम मिलजुल कर रहे ऐसे कि

मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे

मैं हनुमान हूँ इसका

ये मेरे श्री राम हैं

छाती चीरकर देख लो

अंदर बैठा हिंदुस्तान है

मैं चैन ओ अमन पसंद करता हूँ, मेरे देश में दंगा रहने दो

लाल हरे में मत बांटो, मेरी छत पे तिरंगा रहने दो

अंतिम शब्द

मेरे प्यारे दोस्तों अगर आपको मेरी ये शायरियाँ पसंद आईं हो तो मेरे इस पोस्ट को लाइक कीजिये और अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये। और प्यारे-प्यारे कमेंट कीजिये। हमें सोशल मीडिया पर फॉलो जरूर   🙏   करें।

Leave a Comment